Buy 4000+ Plants Buy 800+ Seed n Bulbs Buy 600+ Pot n Planters Offers Free Million Trees Ask Wiki
Call: (+91) 9595 419429 (10AM - 6PM)
care@nurserylive.com | All India Delivery

तोरई का करे कुछ बीमारियोंमे खास उपयोग


#1

तोरई (Ridge gourd) एक प्रकार की बेल वाली सब्जी होती है और इसकी खेती भारत में कई जगहोंपर की जाती है। पोषक तत्वों के अनुसार इसकी तुलना नेनुए (Sponge gourd) से की जा सकती है। वर्षा ऋतु में तोरई की सब्जी का प्रयोग भोजन में अधिक किया जाता है।

Buy Vegetable Seeds I Buy Fertilizers I Buy Pots I 40% Off Diwali Special Plants Pack I Offers

गुण (Property) – इसकी प्रकृति ठंडी और तर होती है। इसमें विटामिन सी, कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और फाइबर ये उच्च घटक होते है । तोरई में पोटेशियम, फोलेट और विटामिन ए की जरुरी मात्रा होती है, जो सामान्य स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है।

Buy Vegetable Seeds I Buy Fertilizers I Buy Pots I 40% Off Diwali Special Plants Pack I Offers

विभिन्न रोगों में उपचार (Treatment of various diseases)
तोरई की बेल गाय के दूध या ठंडे पानी में घिसकर रोज सुबह ३ दिन तक पीने से पथरी गलकर खत्म होने लगती है। आंखों में रोहे (पोथकी) हो जाने पर तोरई के ताजे पत्तों का रस निकालकर रोजाना २ से ३ बूंद दिन में ३ से ४ बार आंखों में डालने से लाभ मिलता है।

Buy Vegetable Seeds I Buy Fertilizers I Buy Pots I 40% Off Diwali Special Plants Pack I Offers

तोरई की बेल गाय के मक्खन में घिसकर २ से ३ बार चकत्ते पर लगाने से चकत्ते ठीक होने लगते हैं। तोरई सब्जी खाने से कब्ज की समस्या दूर होने लगती है जिसके फलस्वरूप बवासीर ठीक होने लगती है। तोरई पेशाब की जलन और पेशाब की बीमारी को दूर करने में मदत करती है ।

Buy Vegetable Seeds I Buy Fertilizers I Buy Pots I 40% Off Diwali Special Plants Pack I Offers

तोरई की जड़ को ठंडे पानी में घिसकर फोड़ें की गांठ पर लगाने से १ दिन में फोड़ें की गांठ जाने लगती है। तुरई के टुकड़ों को छाया में सुखाने के बाद कूटकर नारियल के तेल में मिलाएं, ४ दिन तक रखे और फिर इसे उबालें और छानकर बोतल में भर लें। इस तेल को बालों पर लगाने और इससे सिर की मालिश करने से बाल काले होने लगते है ।

Buy Vegetable Seeds I Buy Fertilizers I Buy Pots I 40% Off Diwali Special Plants Pack I Offers

कड़वी तोरई को उबाल कर उसके पानी में बैंगन को पका लें और बैंगन को घी में भूनकर गुड़ के साथ भर पेट खाने से दर्द तथा पीड़ा युक्त मस्से झड़ जाते हैं। कड़वी तोरई के रस में दही का खट्टा पानी मिलाकर पीने से योनिकंद के रोग में लाभ मिलता हैं। कड़वी तोरई का रस दो-तीन बूंद नाक में डालने से नाक द्वारा पीले रंग का पानी झड़ने लगेगा और पीलिया नष्ट होने लगता है ।

Buy Vegetable Seeds I Buy Fertilizers I Buy Pots I 40% Off Diwali Special Plants Pack I Offers

तोरई के पत्तों को पीसकर लेप बना लें और इस लेप को कुष्ठ पर लगाने से लाभ मिलने लगता है। तोरई के बीजों को पीसकर कुष्ठ पर लगाया जाता है । पालक, मेथी, तोरई, टिण्डा, परवल आदि सब्जियों का सेवन करने से घुटने का दर्द दूर होता है। कड़वी तोरई को चिल्म में भरकर उसका धुंआ गले में लेने से गले की सूजन दूर होती है। अगर रोगी को उलटी करवानी है तो तोरई के बीजों को पीसकर खिलाते है ।

Buy Vegetable Seeds I Buy Fertilizers I Buy Pots I 40% Off Diwali Special Plants Pack I Offers



Recommended Planters : Colorful Planters :

Add a splash of colors to indoor or table-top plants at home and office with these colorful planters.

View | Buy Colorful Planters >> | Browse Planters by Size | Browse Special Planters >>


Buy ready to use nutrient-rich soil:

Buy nutrient-rich soil | Buy Fertilizers >>

In general use, a soil-based compost placed over a generous layer of drainage material such as earthenware crocks, pebbles or gravel. Water and feed regularly, especially while plants are bearing flowers and fruit when a high-potash fertilizer is recommended.


Buy Decorative Pebbles:

Decorate planters or garden landscapes with these decorative pebbles :

View Details | Buy Decorative Pebbles >>

Using pebbles in a garden brings different colors and textures to the garden. Pebbles can also fill up otherwise empty space in the garden, leaving a visual that might be considered more interesting and aesthetic than simple dirt, soil or mulch.